ओडिशा खुशी योजना 2020-2021| Khushi Yojana Odisha 2020-2021 | आवेदन प्रक्रिया

0
655
Khushi Yojana Odisha 2021
Khushi Yojana Odisha 2021

ओडिशा खुशी योजना 2020-2021 (Khushi Yojana Odisha 2020-2021)

ओडिशा सरकार ने लड़कियों के स्वास्थ्य को बेहतर रखने के लिए “ओडिशा खुशी योजना 2021-2021” का प्रारंभ किया। महिला एवं किशोरी सशक्तीकरण मिशन के अंतर्गत स्वास्थ्य एवं स्वच्छता के प्रति जागरूकता का प्रसार करने के लिए इस योजना का आयोजन किया गया। ओड़िशा सरकार ने जागरूकता प्रोग्राम “वूमेन वेलफेयर स्कीम” के अधीन किया। इस योजना में लड़कियों को उनके स्वास्थ्य एवं स्वच्छता की ओर ध्यान देने के लिए लिए प्रेरित किया जाता है। इस योजना की घोषणा 26 फरवरी 2018 को मुख्यमंत्री नवीन पटनायक जी द्वारा की गई।

वित्तीय सहायता (Financial Help)

इस प्रोग्राम के तहत 70 करोड रुपए तक का सालाना लाभ लाभार्थियों को पहुंचाया जाएगा और लगभग सभी स्कूली छात्राओं को लाभ पहुंचाया जाएगा।

उड़ीसा खुशी योजना 2020-2021 का उद्देश्य (Khushi Yojana Odisha 2020-2021: Objectives)

इस योजना का उद्देश्य किशोरियों एवं महिलाओं को सशक्तिकरण मिशन के अंतर्गत स्वास्थ्य संबंधी एवं स्वच्छता संबंधी समय-समय पर जानकारी मुहैया करवाना और जागरूकता का प्रसार करना है, क्योंकि देखा गया है कि जागरूकता की कमी की वजह से बहुत सारी लड़कियां एवं महिलाएं शारीरिक रूप से कमजोर और कई गंभीर बीमारियों की शिकार हो जाती है।

उड़ीसा खुशी योजना 2020-2021 के लाभ (Khushi Yojana Odisha 2020-2021: Benefits)

  • सेनेटरी पैड केप्रयोग से अवगत करवाना, उपलब्ध करवाना एवं स्वच्छता के महत्व से अवगत करवाना  इस जागरूकता मिशन का हिस्सा है।
  • प्रदेश में ग्रामीण महिलाओं एवं किशोरियों को सेनेटरी पैड के प्रयोग हेतु प्रोत्साहित करने के लिए आंगनबाड़ी कार्यक्रम के तहत सब्सिडीदरों पर पैड उपलब्ध करवाए जाते हैं ।
  • इस योजना के माध्यम से प्रदेश के ग्रामीण क्षेत्रों में सेनेटरी पैड के बाजार का विस्तार करना है क्योंकि ग्रामीण इलाकों मेंइसकी बहुत आवश्यकता है।
  • खुशी योजना से किशोरावस्था की आयु से ही लड़कियों को स्वयं के स्वास्थ्य एवं स्वच्छता की जानकारी प्राप्त हो जाएगी।
  • इस योजना के अंतर्गत सभी सरकारी एवं अर्ध सरकारी स्कूलों की कक्षा 6वीं से कक्षा 12वीं तक की छात्राओं को मुफ्त सेनेटरी पैड उपलब्धकरवाए जाएंगे।

खुशी योजना से स्कूल जाने वाली  किशोरी छात्राओं को पैसे के अभाव के कारण सेनेटरी पैड का प्रयोग ना कर पाने की समस्या का समाधान हो पाएगा तथा ग्रामीण महिलाओं और किशोरी लड़कियों में स्वयं के स्वास्थ्य संबंधी जागरूकता बढ़ेगी। वह कई तरह की शारीरिक समस्याओं से बच पाएंगी, जो सिर्फ इसलिए होती हैं कि उनके पास इसकी जानकारी ही नहीं होती। इस तरीके की जानकारी और जागरूकता लड़कियों का मनोबल बढ़ाएगी।

इस योजना के लिए कोई भी पंजीकरण प्रक्रिया नहीं है। यह योजना सरकार द्वारा सभी सरकारी एवं अर्ध सरकारी स्कूलों में बहुत ही व्यवस्थित तरीके से चलाई जा रही है। जिसका फायदा किशोरियों / छात्राओं / ग्रामीण महिलाओं को मिल रहा है। इस योजना के अंतर्गत संगठित टीम हर जगह जाकर जागरूकता  फैलाती है।  

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here