मुख्यमंत्री लक्ष्मी लाडली योजना 2021 झारखंड | Jharkhand Lakshmi Ladli Yojana 2021 | ऑनलाइन पंजीकरण

3
1650
Jharkhand Lakshmi Ladli Yojana 2021

क्या है, मुख्यमंत्री लक्ष्मी लाडली योजना 2021 झारखंड (Jharkhand Lakshmi Ladli Yojana 2021)

झारखंड के सरकार ने हाल ही मैं मुख्यमंत्री “लक्ष्मी लाडली योजना” लागू की है जो बेटियों के लिए बहुत ही मददगार साबित होगी। झारखंड सरकार ने पूरी कोशिश की है कि इस योजना के तहत वो बेटियों के पालन पोषण का पूरा खर्चा उठा सकें और तो और उनकी शादी का भी पूरा खर्चा  झारखंड सरकार की तरफ से ही होगा ।

मुख्यमंत्री लक्ष्मी लाडली योजना गरीब परिवारों के लिए किसी वरदान से कम नहीं , यह योजना गरीबी रेखा से नीचे गुजर-बसर करने वाले परिवारों के लिए है।  15 नवंबर 2010 के बाद जन्मी बच्चियों को इसका लाभ मिलता आ रहा है। इस योजना के तहत बच्ची के जन्म से लेकर  5 साल तक 6000  रुपए  मतलब कुल 30000 रुपए डाक जमा योजना के माध्यम से सरकार द्वारा निवेश किया जाएगा ।

एक निश्चित राशि पर डाकघर में बच्ची के नाम से अकाउंट खोला जाता है। बच्ची जब छठी क्लास में जाएगी तो 2000 रुपए  और इसी प्रकार जो नौवीं क्लास में जाएगी तो 4000 रुपए का  भूगतान  सरकार की तरफ से किया जाएगा। ठीक है ऐसे ही बच्ची की 11वीं  कक्षा में पहुंचने पर उसे 7500 रुपए मिलेंगे। इतना ही नहीं जब बच्चे 11वीं और 12वीं क्लास में जाएगी तो उसे हर महीने 200  छात्रवृत्ति प्रदान की जाएगी। उसके साथ साथ बालिका की उम्र जब 21 वर्ष हो जाएगी तो उसे एक साथ एक लाख आठ हजार  600 रुपए मिलेंगे लेकिन बालिका की शादी अगर 18 वर्ष के बाद हुई हो.

अगर आवेदन न किये हो और योजना के मध्य में आवेदन करें तब:

योजना के मध्य में यानी 21 वर्ष होने से पहले-  बालिका के आवेदन पर उस दिनांक तक समस्त राशि का भुगतान समयपूर्ण किया जा सकेगा बशर्तें-

बालिका की आयु 18 वर्ष की हो चुकी हो। बालिका कक्षा 12वीं में सम्मिलित हो और  बालिका का विवाह 18 वर्ष या उसके बाद हुआ हो।

मुख्यमंत्री लक्ष्मी लाडली योजना 2021 की योग्यता (Jharkhand Lakshmi Ladli Yojana 2021: Eligibility) 

  • बालिका झारखंड राज्य की निवासी हो । दिनांक 15 नवंबर 2010 या इसके बाद की जन्मी बालिका हों।
  • ऐसे व्यक्ति जो गरीबी रेखा के अंतर्गत हो तथा जिसकी वार्षिक आय 72000 रुपये या उससे कम हो।
  • अधिकतम 2 बच्चों के बाद परिवार नियोजन दंपति द्वारा अपना ली गई हो।
  • अगर बच्च्ची अनाथ या गोद ली गई हो तब भी इस योजना की हकदार है।
  • यदि बच्चे जुड़वा हुए तो भी मान्य  हैं मतलब अगर दोनों बच्चियां हों तो भी  वह दोनों बच्चियां इस योजना के हकदार हैं।
  • यदि माता-पिता दोनों की मृत्यु हो गई हो तो भी उनकी बालिका इस योजना की हकदार है बशर्ते माता पिता की मृत्यु प्रमाण पत्र उपलब्ध हो।
  • जन्म के 1 वर्ष के अंदर ही आवेदन करना अनिवार्य रहता है क्योंकि अगर जन्म के 1 साल से अधिक पुराना आवेदन मान्य नहीं होगा। क्योंकि इस योजना काम  2011-12 से शुरू हुआ लेकिन जो बच्चे 2010 में  पैदा हुए उनका भी आवेदन मान्य होगा।
  • इस योजना के आवेदन के लिए बालिका का जन्म प्रमाण पत्र अनिवार्य है।

बालिका के कक्षा छठवीं पहुंचने पर मतलब पहले भुगतान होने के पूर्व पदाधिकारियों द्वारा  बालिका के लिए आधार पहचान पत्र (यू आई डी) बनाना अनिवार्य होगा। साथ ही साथ किसी भी भुगतान का लाभ पाने के लिए बालिका और उनके परिजनों का आधार पहचान पत्र का नंबर होना बहुत जरूरी है।

मुख्यमंत्री लक्ष्मी लाडली योजना 2021 के आवेदन करने के नियम (Jharkhand Lakshmi Ladli Yojana 2021: Registration Process)

  • आवेदन को अपने निकटतम आंगनवाड़ी केंद्र में अपना आवेदन देना होगा।
  • जन्म प्रमाणपत्र , आय प्रमाणपत्र, बी पी एल सूची में शामिल होने वाले यह सब प्रमाणपत्र की जरूरत आवेदन के समय होना अनिवार्य है।
  •  गोद ली हुई बच्च्ची /अनाथ बच्ची के मामले में अनाथालय के अधीक्षक द्वारा अनाथालय मे प्रवेश के एक वर्ष के अंदर एवं बालिका की आयु 6 वर्ष होने के पूर्व संबंधित परियोजना के अधिकारी को आवेदन देना होगा।
  •  अगर यह आपकी दूसरी बच्ची है तो उसके साथ-साथ माता-पिता द्वारा बंध्याकरण व नसबंदी का प्रमाण पत्र भी अनिवार्य है।

मुख्यमंत्री लक्ष्मी लाडली योजना के कुछ अपवाद (Jharkhand Lakshmi Ladli Yojana 2021: Disadvantage)

अगर बालिका योजना के किसी भी स्तर पर शिक्षा नहीं प्राप्त कर रही हो यानी 5वीं 8वीं 10वीं या 12वीं की कक्षा में अगर उसने प्रवेश नहीं किया है  या उसने विद्यालय परित्याग कर दिया हो , तो ऐसी स्थिति में  वह इस योजना की हकदार नहीं है।

  • अगर बालिका की उम्र 18 वर्ष से कम हो और उसकी शादी कर दी गई हो तो  आगे इस योजना का लाभ उसे नहीं मिल पाएगा।
  •  अगर बालिका की अचानक मौत हो जाती है तो उसके इस पाने वाले राशि का हकदार उसका परिवार नहीं होगा।

भारत को सबसे ज्यादा कन्या भ्रूण हत्या का देश कहा जाता है  और इसका कारण  सिर्फ नकारात्मक सोच है क्योंकि भारत एक पुरुष प्रधान देश है यहाँ औरतों की सोच को दबाया जाता है। ऐसे में कोई अपने घर में बेटी नहीं चाहता । कई लोग बेटियों को इसलिए नहीं पालना चाहते हैं क्योंकि कहते हैं कि बेटियां पराया धन होती हैं , इसलिए यह योजना बच्चियों के लिए बहुत लाभकारी होगी । 

 

3 COMMENTS

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here